Hindu Religion & Science ( हिन्दू धर्म ओर विज्ञान )

आज की तारीख में पुरे विश्व में विज्ञान के क्षेत्र में काफ़ी प्रगति हुई हे. पहले हम ख़त-चिठ्ठी लिखकर एक दुसरे से बात करते थे किंतु आज की तारीख में Mobile , Phone calls, Email , आदि से हम दुनिया के किसी भी कोने में किसी भी व्यक्ति से बात कर सकते हे. एसे ओर कई अन्य क्षेत्र भी हे जहाँ मानव ने विश्व में काफ़ी प्रगति की हे.

किंतु एक बात तो हे , मानव चाहे कितनी भी प्रगति क्यों ना कर ले , कितने भी बड़े – बड़े मशीन बनाये , बिल्डिंग बनाय, आकाश में अन्य ग्रह की मुलाकात करे. किंतु वह भगवान की बनायीं गयी इस सृष्टि का मुकाबला कभी नहीं कर सकता.                                                                                                                                                             मुझे हमेशा खयाल आता हे की भगवान ने इतनी खुबसूरत सृष्टि कैसे बनायीं होगी. पेड़, पौधे , वृक्ष , नदियाँ , धरती, आकाश ,हवा , समुद्र, पक्षी , प्राणी, वन्यजीव , मानव आदि का निर्माण किया. हर छोटी – मोटी चीजो का ध्यान रखकर. भगवान ने इन्सान को बनाया तो सुनने के लिए कान , देखने के लिए आंख , खाने के लिए दांत आदि जैसे अनेक छोटी-छोटी बाते का ध्यान रखकर बनाया. हवा – पानी – धरती – फल – फुल आदि का सर्जन किया.

vishu-2496097_960_720.jpg

“Really God is God & Thank you For Give us These Beautiful Life “

हिन्दू धर्म ओर हिन्दू धर्म के वेद , ग्रंथ , पुराण आदि में भगवान के साथ साथ सृष्टि, ब्रह्मांड, ओर विज्ञान से जुडी कई बातो का वर्णन हे.आज विज्ञान के क्षेत्र में प्रगति हो रही हे किंतु कुछ बाते ऐसी भी हे जिसका पहले से ही हिन्दू धर्म के पौराणिक ग्रंथ ओर वेदों में वर्णन किया गया हे.

आइये तो इनके बारे में कुछ जानकारियां जानते हे :- 

ब्रह्मांड में अनेक आकाशगंगा होना ( Milky way & Universe )  :- 

ब्रह्मांड में आकाशगंगा में सूर्य, चंद्र , पृथ्वी ओर अन्य ग्रह का समूह होना, साथ ही ऐसी अनेक आकाशगंगा ( Galaxy ) होना. यह बात विज्ञान बता रहा हे. किंतु भारत के प्राचीन वेदों में तो इसका वर्णन पहले से ही हे.कहा जाता हे की भारत के अति प्राचीन रुषीमुनियों ध्यानमुद्रा में बैठकर संपूर्ण ब्रह्मांड का परीभ्रमण करते थे. ओर वे अनेक जानकारियां जानते थे.

पृथ्वी का गोल होना :-

अनेक खोज ओर अनेक सन्दर्भ के बाद वैज्ञानिको को पता चला की हमारी पृथ्वी का आकार गोल हे किंतु हिन्दू धर्म के मुताबिक भगवान का एक अवतार जो वराह अवतार से प्रसिद्द हे. उस वराह अवतार की गाथा के अनुसार उसके वर्णन में बताया गया हे की पृथ्वी गोल हे.

ध्यान में बेठकर बाते करना :- 

रामायण ग्रंथ के मुताबिक उर्मिला लक्षमण की पत्नी थी ओर जब लक्ष्मण जी राम ओर सीता मैया के साथ वनवास गए थे तब एसा कहा जाता हे की उर्मिला ओर लक्ष्मण ध्यान में बैठकर एक दुसरे से बात करते थे ओर एक दुसरे का हाल-चाल पूछते थे.

अंतरिक्ष में समय की गणना ( Space & Time ) :- 

एक वैज्ञानिक की खोज के अनुसार पता चला की पृथ्वी के बहार विभिन्न जगह पर समय की गणना भी विभिन्न होती हे. मतलब अंतरिक्ष में स्थान के साथ साथ समय की गति भी विभिन्न होती हे. किंतु यह बात हिन्दू धर्म के ब्रह पुराण ओर हरिवंशपुराण में कई विस्तार से लिखी गयी हे.

विमान की खोज :- 

सुनने में थोडा अजीब लगे किंतु भारत के कई एसे ग्रंथ हे जिसमे पहले से ही विज्ञान का वर्णन किया गया हे. ओर उनमे से सबसे प्रसिद्ध हे रुषी भरद्वाज रचित ” यंत्र वर्चस्व ” आपने पुरानी दंतकथा ओ में तो सुनाही होगा की भगवान का विमान लेने आया था ओर आपने पुष्पक विमान के बारे में भी सुना होगा जिसमे श्री राम सीता मैया को अयोध्या लाये थे.

अन्य ( Others ) :- 

  • साथ ही हिन्दू धर्म की अनेक ऐसी दंतकथाए हे  जो हमें ऐसी बाते सोचने पर मजबूर करती हे.
  • कृष्ण भगवान की कथा में भ्रूण स्थलांतर की बात बताई गयी हे.
  • भगवान गणेश की दंतकथा में मुख स्थलांतर की बात बताई गयी हे.
  • महाभारत ग्रंथ में ब्रह्मास्थ जैसे हथियारों का वर्णन किया गया हे जो आज के हथियार से कम नहीं थे.

हिन्दू धर्म की ऐसी कई बाते हे जो साबित करती हे की पुराने ज़माने में रुषीमुनियो ओर साधू इत्यादि अति ज्ञानी थे. भारत के ग्रंथ रुग्वेद , सामवेद , अथर्ववेद , यजुर्वेद , उपनिषद् आदि वेद ज्ञान से भरपूर हे. साथ ही हिन्दू धर्म की अनेक ऐसी प्राचीन परम्पराए भी हे जो स्वास्थ्य के लिए लाभदायी हे .

 

 

 

 

13 thoughts on “Hindu Religion & Science ( हिन्दू धर्म ओर विज्ञान )

Add yours

  1. गुलामी के कारण ज्ञान व विज्ञान का अमुल्य खजाना विस्मृत करा दिया गया। उसी प्राचीन ज्ञान को पास्चात्य विज्ञानी अपनी खोज बताकर उधृत कर रहे हैं।

    Liked by 2 people

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Blog at WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: