Indian Gadgets Old To New ( भारत के पुराने ओर आधुनिक यंत्र ) ( भारतीय संचार माध्यम )

आज देश ने बहुत प्रगति कर ली हे. किंतु कभी एसे दिन भी थे जब लोग खास तौर पर एक दुसरे से मिलने या शाम को ऐसे ही घुमने के लिए निकलते थे. तभी आज के जैसे सभी के पास Mobile Phone , LandLine , Email , Video Game ऐसे आधुनिक यंत्र बहुत कम थे, किंतु तभी भी जीवन तो जिया ही जाता था ओर एक आनंद भी था.

शुरुआत में जब Fridge , TV , Landline आए तभी कई लोगो के पास यह वस्तुए नहीं थी लोग अडोस-पड़ोस के घर TV देखने जाया करते थे. Landline नहीं थे तो रिश्तेदारों के Phone calls भी पड़ोस में या STD-PCO Booth में Calls आये करते थे . लोग बर्फ की ट्रे रखने भी पड़ोस के घर जहा फ्रिज हो वहां रखने जाते थे. किंतु  आज तो यह यंत्र सभी के घर में होते ही हे.

आइये तो कुछ पुराने यंत्र ओर कुछ सालो पहले के जीवन की यादे ताज़ा कर लेते हे :-

कबुतरो द्वारा पत्रव्यवहार ( Message sent by pigeon ) :-  

pigeon-42590__340.png

शुरूआती में जब राजा – महाराजा का  काल था तब लोग एक दुसरे को यदि कोई संदेश भेजना हो तो तभी कबूतर द्वारा एक दुसरे को संदेश भेजा जाता था. और कहा जाता हे की विज्ञानं के मुताबिक कबूतर जगह पहचानने में माहिर होते हे .

भारतीय डाक बॉक्स ( Indian Post Box )  :-

कुछ सालो पहले डाकिया डाक भी लाता था . तार , टेलीग्राम आदि. और हर जगह डाक घर और पोस्ट बॉक्स भी रखा जाता था. आज भी कुछ ऐसे इलाके और  जगह हे जहाँ खानगी पार्सल कंपनीया पार्सल नहीं पहोचा पाती किन्तु Indian Post द्वारा जरुर पार्सल पहोचाया जाता हे. उस समय पर जब डाकिया डाक लाता था तब उसे देखने की भी एक उत्सुकता थी की किसने डाक भेजा हे .

टेलीफोन ( Telephone ) :- 

old-956455__340.jpg

आज घर पर जितने सदस्य हो उनके पास मोबाइल होता ही हे. किन्तु एक समय था जब कुछ लोगो के पास ही Telephone था.

पेजर ( Pager ) :- 

download.jpg

एक समय था जब पेजर बहुत प्रचलित था. यदि कोई हमें याद कर रहा हो और किसीको कुछ मेसेज भिजवाना हो तो पेजर का उपयोग किया जाता था. इसमे नंबर और कुछ हद तक SMS की तरह मेसेज भी भिजवाया जा सकता था .

टेप रेकॉर्डर और वी.सी.आर और बूम बॉक्स  ( Boom Box & Tape Recorder & VCR  ) :- 

आज हम अक्सर TV और मोबाइल में ही गाने सुनते हे किन्तु पहले गाने सुनने के लिए हम Tape Device का इस्तमाल करते थे . हर फिल्म के गाने  की कैसेट बाजार में मिलती थी. लोकगीत , भजन आदि की भी कैसेट बाजार में मिलती थी. और VCR Player भी था जिसमे हम video Cassette के द्वारा Video भी देख सकते थे.   आज तो शायद ही कोई इसका इस्तमाल करता हो.

टीवी ( TV – Television ) :-

आज की दुनिया में तो Smart TV अधिक देखे जाते हे जिनमे TV से लेकर Internet तक की सभी सुविधाए उपलब्ध हो किन्तु एक समय था जब Black & White TV ही था और जिसमे केवल दो ही दूरदर्शन चैनल आती थी. और यदि बारिश आए तो नेटवर्क भी चला जाता था और हम वह Antenna हिलाने भी जाते थे.

रेडियो ( Radio ) :- 

radio-821602__340.jpg

रेडियो तो आज भी हम कार ड्राइव करते समय सुनते हे और कई जगह देखा और उपयोग किया जाता हे किन्तु एक समय था जब रेडियो का अधिक उपयोग और मनोरंजन के हेतु किया जाता था .

फ्लॉपी ( Floppy )  :- 

memory-2882481__340.jpg

यह Floppy हे यह भी एक Storage Device ही हे. किन्तु इसमे केवल 1.44 MB तक की ही Memory Save की जाती थी. मतलब यदि एक गाना भी Save करना हो तो टुकड़ो में Save करना पड़ता था.

वोल्क्मेंन ( Walkman ) :- 

sony-2202305__340.jpg

आज हम यदि गाने सुनने हो तो मोबाइल में ही सुनते हे पहले यह Walkman मिलता था जिनमे तरह तरह के गाने सुने जाते थे.

टाइप राइटर ( Type Writer ) :- 

typewriter-1248088__340.jpg

आज हम टाइपिंग के लिए कम्पुटर या लैपटॉप का ही इस्तमाल करते हे किन्तु एक समय था जब केवल टाइपिंग के लिए टाइपराइटर का ही इस्तमाल किया जाता था .

CD or DVD Player :-

यह आज भी किसी किसी के घर में होते हे किन्तु इसका इस्तमाल बहोत कम किया जाता हे. शादी या अन्य कोई फंक्शन की वीडियो या अन्य कोई फिल्म देखने के लिए इसका इस्तमाल करते हे. अन्यथा बहुत लोग द्वारा Pen drive का ही इस्तमाल किया जाता हे . यह CD में 700 MB तक की मेमरी सेव की जाती थी किन्तु आज Pen drive ही 4 GB से लेकर 32 GB तक और उससे अधिक मिलाती हे .

ओर भी प्रकार के हैंड विडियो गेम , टीवी वीडियो गेम , फैक्स मशीन , और कई अन्य प्रकार के यंत्र भी थे जो आज केवल याद बनकर ही रह गए हे.

 

13 thoughts on “Indian Gadgets Old To New ( भारत के पुराने ओर आधुनिक यंत्र ) ( भारतीय संचार माध्यम )

Add yours

  1. सुंदर लेख. एक समय था जब रेडियो भी कम ही लोगों के पास होता था. हर रविवार पड़ोस में जाकर ‘बच्चों का प्रोग्राम’ सुनता था मैं. आज़ादी के तुरंत बाद के दिनों में न सबके पास बिजली थी, न मिट्टी का तेल मिलता था. सरसों के तेल के दिए जलाते थे हम लोग. प्रगति अवश्य की देश ने लेकिन population explosion ने सब बराबर कर दिया. (हिन्दी भाषी न होने पर भी हिन्दी में लिखने का बहुत अच्छा प्रयास है. यदि आप बुरा न मानें तो मैं मात्राएँ ठीक करना चाहूँगा.)

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Blog at WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: